अब बीजेपी देख सकती है घाटी में कब्जे का सपना

0
BJP can now see the dream of possession in the valley

जम्मू कश्मीर में भले ही लंबे समय से राज्यपाल शासन हो, लेकिन बीजेपी को सरकार चलाने का मौका मिल गया है. ये ऐसी जमीनी सरकार है जिसके चलते बीजेपी 2019 के साथ ही राज्य में अपने दम पर सरकार बनाने का सपना पाल रही है. हम बात कर रहे हैं, जम्मू समेत कश्मीर के कई शहरों में बनी बीजेपी की निकाय चुनाव में सफलता की. जिनमें अब बीजेपी शहर के अंदर सरकार चलाएगी.

निकाय चुनाव का बहिस्कार पीडीपी, नेंका को इतना भारी पड़ेगा ये शायद ही किसी ने सोचा हो. क्योंकि बीजेपी ने जिसतरह से कई शहरों में कब्जा किया है. उससे साफ हो गया है कि आने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में बड़ा कमाल हो जाए तो अप्रत्याशित नहीं होगा. ये सफलता इसलिए भी मायने रखती है, क्योंकि केंद्र में बीजेपी सरकार आने के बाद घाटी में लगातार ऑपरेशन ऑलआउट चल रहा है. जिसमें आतंकियों का बड़ी संख्या में सफाया किया जा रहा
है. निकाय चुनाव के परिणाम बताते हैं कि केंद्र सरकार के ऑपरेशन क्लीन से घाटी के लोगों को जरा भी नाराजगी नहीं है. बस वो विकास की राह देखना
चाहते हैं.

यह भी पढ़े: ये कौन सा विकास ? जब भूख से मरने वालों की लगातार बढ़ रही तादाद

स्थानीय निकाय चुनावों की सफलता के बाद पार्टी को जम्मू कश्मीर में बीजेपी का सीएम राज करता दिखने लगा है. शहर में सरकार बनाकर बीजेपी का मन
गदगद है, ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि लोकसभा चुनाव के साथ जम्मू कश्मीर में विधानसभा के चुनाव भी हो जाये तो बीजेपी को बड़ी सफलता हाथ लग सकती है.

आंकड़ों पर नजर डालें तो जम्मू संभाग की कुल 521 सीटों में से 520 पर वोटिंग हुई. बीजेपी को 212 सीटें मिली, जबकि जम्मू में 75 सीटों में 43 सीटों पर जीत मिली. बीजेपी का 10 जिलों में शानदार प्रदर्शन रहा. जम्मू नगर निगम में 2005 में बीजेपी, शिवसेना को सिर्फ 26 सीटें मिली थीं, जबकि 2014 के विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड तोड़ 25 सीटें मिली

बात कश्मीर संभाग की करें तो 44 विधानसभा सीटों हैं, वहीं लद्दाख में 4 सीटें हैं. बीजेपी की कोशिश होगी की आने वाले विधानसभा चुनाव में वो ज्यादा से ज्यादा सीटों पर कब्जा करे. ताकि पीडीपी और नेंका के पास बीजेपी के अलावा कोई विकल्प न बचे. बीजेपी अगर प्रदेश में सबसे बड़ी पार्टी बनती है, तो बीजेपी सीएम पर पर दावा ठोंक सकती है.

यह भी पढ़े: उत्तराखंड: महत्वाकांक्षी चारधाम परियोजना पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, अगली सुनवाई 15 नवंबर को

निकाय चुनाव में बंपर सफलता से खुश बीजेपी अब केंद्र से मोटा बजट लेकर विकास और उदारवादी नीतियों को अपना कर जम्मू कश्मीर को अपना बना सकती है. ताकि कश्मीर से कन्या कुमारी तक भारत कांग्रेस मुक्त और बीजेपी युक्त होने का सपना पूरा कर सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here