पीएम मोदी ने की ‘मन की बात’ बोले,’मोदी आएगा और चला जाएगा, लेकिन यह देश अटल रहेगा’

0

जिस रेडिया माध्यम के द्वारा प्रधानमंत्री मोदी भारत के जन जन से ‘मन की बात’ करते है आज उसका 50वां संस्करण था. ‘मन की बात’ के इस एपिसोड में पीएम मोदी ने कई बात कहीं जिसमें रेडियो की ताकत का भी ज्रिक किया.

ये 1998 की बात है, मैं भारतीय जनता पार्टी के संगठन के कार्यकर्ता के रूप में हिमाचल में काम करता था. मई का महीना था. और मैं शाम के समय घुमते हुए किसी और स्थान पर जा रहा था. हिमाचल की पहाड़ियों में शाम को ठण्ड तो हो ही जाती है, तो रास्ते में एक ढाबे पर चाय के लिये रुका वो बहुत छोटा सा ढाबा था, एक ही व्यक्ति खुद चाय बनाता था, बेचता था. ऊपर कपड़ा भी नहीं था.

ये भी पढे : अयोध्या नहीं ओरछा के राजा है भगवान राम, सदियों पहले ऐसे मिला था सिंहासन

ऐसे ही सड़क के किनारे पर छोटा सा ठेला लगा के खड़ा था.  तो उसने अपने पास एक शीशे का बर्तन था, उसमें से लड्डू निकाला, पहले बोला – साहब, चाय बाद में, लड्डू खाइए, मुँह मीठा कीजिये.

मैं भी हैरान हो गया तो मैंने पूछा क्या बात है कोई घर में कोई शादी-वादी कोई प्रसंग-वसंग है क्या! उसने कहा नहीं-नहीं भाईसाहब, आपको मालूम नहीं क्या?  अरे बहुत बड़ी खुशी की बात है वो ऐसा उछल रहा था,  ऐसा उमंग से भरा हुआ था, तो मैंने कहा क्या हुआ!  तो उसने बताया कि आज भारत ने बम फोड़ दिया है. मैंने कहा भारत ने बम फोड़ दिया है. मैं कुछ समझा नहीं, तो उसने कहा – देखिये साहब, रेडियो सुनिये. रेडियो पर उसकी चर्चा चल रही है.

ये भी पढ़े : कांग्रेस नेता का विवादित बयान, कोई नहीं जानता प्रधानमंत्री मोदी के पिता कौन हैं

मुझे बड़ा ही आश्चर्य हुआ कि इस जंगल के सुनसान इलाके में, बर्फीली पहाड़ियों के बीच, एक सामान्य इंसान जो चाय का ठेला लेकर के अपना काम कर रहा है और दिन-भर रेडियो सुनता रहता होगा और उस रेडियो की ख़बर का उसके मन पर इतना असर था, इतना प्रभाव था.

ये भी पढे : गंगा : दुनिया की सबसे संकटग्रस्त नदी

‘मोदी आएगा और चला जाएगा, लेकिन यह देश अटल रहेगा’

प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात में कहा कि, मोदी आएगा और चला जाएगा, लेकिन यह देश अटल रहेगा, हमारी संस्कृति अमर रहेगी. 130 करोड़ देशवासियों की छोटी-छोटी यह कहानियाँ हमेशा जीवित रहेंगी. इस देश को नयी प्रेरणा में उत्साह से नयी ऊंचाइयों पर लेती जाती रहेंगी.

साथ ही उन्होंने कहा कि कभी-कभी ‘मन की बात का मजाक भी उड़ता है लेकिन मेरे मन में हमेशा ही 130 करोड़ देशवासी बसे रहते हैं. उनका मन मेरा मन है. मन की बात सरकारी बात नहीं है, यह समाज की बात है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here