शीला दीक्षित के हाथों में आई दिल्ली कांग्रेस की कमान

लगातार 15 सालों तक दिल्ली की सत्ता पर बतौर मुख्यमंत्री राज करने वाली शीला दीक्षित को कांग्रेस ने बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है.

पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने शीला को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (डीपीसीसी) की अध्यक्ष बनाया है. हालांकि इस बारे में औपचारिक घोषणा जल्द ही की जाएगी.

यह भी पढ़ेंः एक बार फिर अपने ही बयान के चक्रव्यूह में फंसे राहुल, महिला आयोग का नोटिस

शीला दीक्षित देश की ऐसी पहली महिला मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने लगातार तीन बार मुख्यमंत्री पद संभाला है. इसके अलावा वे केरल की पूर्व राज्यपाल भी रह चुकीं हैं

यह भी पढ़ेंः सवर्ण आरक्षणः शिवसेना ने बीजेपी से पूछा तीखा सवाल

इन लोगों को भी मिली अहम जिम्मेदारी

शीला दीक्षित के अलावा पार्टी ने डॉ. योगानंद शास्त्री, देवेन्द यादव, हारून यूसुफ और राजेश लिलोठिया को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है.

यह भी पढ़ेंः राम मंदिर मामले पर 29 जनवरी को अगली सुनवाई, गठित होगी नई बेंच

बताया जा रहा है कि दिल्ली कांग्रेस में नेताओं ने अपने-अपने कई गुट बना रखे थे. पार्टी इसी अंदरूनी कलह को खत्म करने के लिए किसी बड़े स्तर के नेता को कमान सौंपना चाहती थी। शीला दीक्षित इस पैमाने पर एक दम खरी उतर रही थी. यही सोचकर पार्टी ने शीला को यह जिम्मेदारी सौंपी.

यह भी पढ़ेंः संसद में किरण खेर कर बैठीं कुछ ऐसा, लोगों ने बताया ‘द एक्सिडेंटल सांसद’

ये लोग भी थे रेस में

वैसे तो अध्यक्ष पद के लिए शीला दीक्षित का नाम ही सबसे आगे चल रहा था लेकिन कुछ अन्य लोग भी रेस में थे. इन लोगों में पूर्व पीसीसी चीफ जेपी अग्रवाल, राजेश लिलोठिया, प्रह्लाद सिंह साहनी, अरविंदर सिंह लवली योगानंद शास्त्री व देवेंद्र यादव के नाम शामिल थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here