योगी सरकार को चाहिए ‘सात्विक’ पुलिस वाले, दारु-सिगरेट से दूर और शुद्ध शाकाहारी

कुंभ मेले में ड्यूटी करने वाला पुलिसकर्मी युवा, चुस्त और शाकाहारी होना चाहिए. वह शराब या बीड़ी-सिगरेट का नशा ना करता हो और मृदुभाषी हो यानी सलीके से तमीज़ के साथ बात करने वाला हो

0
Yogi Sarkar wants 'Satvik' police, Away from alcohol-cigarettes and pure vegetarians

लखनऊ: कुंभ मेले की तैयारी में लगी उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को सुरक्षा इंतजामों के लिए ‘सात्विक’ किस्म के पुलिसकर्मियों की तलाश है। इन्हें सात्विक कहने की वजह यह है कि सरकार कुछ शर्तों के साथ पुलिसकर्मियों को खोज रही है. इनके मुताबिक कुंभ मेले में ड्यूटी करने वाला पुलिसकर्मी युवा, चुस्त और शाकाहारी होना चाहिए. वह शराब या बीड़ी-सिगरेट का नशा ना करता हो और मृदुभाषी हो यानी सलीके से तमीज़ के साथ बात करने वाला हो. इन सब गुणों के साथ ही पुलिसकर्मी के पास अच्छे चाल-चलन का प्रमाणपत्र (कैरेक्टर सर्टिफिकेट) भी होना चाहिए.

ये भी पढ़ें- जारी हुआ सर्जिकल स्ट्राइक का एक और वीडियो, देखिए कैसे सेना ने किया था आतंकी ठिकानों को तबाह

पहली बार पढ़ने पर यह जानकारी खबर कम और किसी शादी का इश्तेहार ज्यादा लगती है. लेकिन यह सच है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक कुंभ के लिए नियुक्त किए गए डीआईजी केपी सिंह इसकी पुष्टि करते हुए कहते हैं, ‘हमने बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर और पीलीभीत के एसएसपी अधिकारियों को केवल उन्हीं पुलिसकर्मियों को प्रमाणपत्र देने को कहा है जो शाकाहारी हों, सिगरेट-शराब न पीते हों और अच्छे से बात करते हों.’ राज्य सरकार यह भी चाहती है कि कुंभ के लिए ऐसे पुलिसवालों को लिया जाए जो इलाहाबाद के न हों. पुलिसकर्मियों की तैनाती के लिए उनकी उम्र की सीमा भी तय की गई है. कॉन्स्टेबल के लिए पुलिसकर्मी की उम्र 35 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. हेड कॉन्स्टेबल के लिए 40 और सब-इंस्पेक्टर के लिए 45 वर्ष की आयु सीमा तय की गई है.

ये भी पढ़ें- 2019 के लिए शिवपाल तैयार, अलग सिंबल पर चुनाव लड़ने की तैयारी

मेले के लिए तैनाती की प्रक्रिया अक्टूबर से शुरू हो जाएगी. कहा जा रहा है कि इस बार कुंभ की सुरक्षा के लिए 10,000 सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की जाएगी. इसमें पुलिस बल के साथ पैरामिलिट्री के जवान भी शामिल होंगे. अगले महीने से शुरू हो रही यह तैनाती चार चरणों में पूरी होगी. पहले चरण में दस प्रतिशत पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे. दूसरा चरण नवंबर में शुरू होगा जिसमें 40 प्रतिशत पुलिसकर्मियों को सुरक्षा में लगाया जाएगा. दिसंबर में तीसरे चरण के तहत 25 प्रतिशत और पुलिसकर्मी तैनात होंगे. चौथे चरण के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एसएसपी अधिकारियों को लिखा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here