नहीं रही 107 साल की सबसे बुजुर्ग यूट्यूबर ‘कुकिंग क्वीन’ मस्तनम्मा

0

देशी स्टाइल में खाना बनाने वाली दुनिया की सबसे बुजुर्ग यूट्यूबर ‘कुकिंग क्वीन’ मानी जाने वाली मस्तनम्मा नहीं रहीं. 107 साल की उम्र में उनका आंध्रप्रदेश के गुंटूर जिले में निधन हो गया. साल 2016 के आखिर में बने उनके यूट्यूब चैनल “कंट्री फूड” ने तहलका मचा दिया.

गांव की अनपढ़ मसनम्मा रातों रात सेलिब्रिटी शेफ बन गईं. बस फर्क इतना रहा कि वे दूसरे शेफ की तरह चमचमाते किचन में नहीं बल्कि खेत में चुल्हा जलाकर खाना बनाया करतीं. 

ये भी पढ़ें: ऐसे ही बोलते रहे तो सिद्धू की चली जाएगी आवाज, डॉक्टरों ने दी ये सलाह

मस्तनम्मा के फेमस रेसिपी

वॉटरमेलन चिकन

मस्तनम्मा का वॉटरमेलन चिकन सबसे लोकप्रिय रेसिपी रही. जिसे एक करोड़ लोगों ने देखा. वॉटरमेलन चिकन बनाने कि लिए मस्तनम्मा पूरा का पूरा चिकन तरबूज के खोल के भीतर डालकर पकाती थी.  वॉटरमेलन चिकन खाने वाले कहते है कि इसका स्वाद अगर स्वार्गिक कहा जाए तो बड़ी बात नहीं.

ये भी पढ़ें: 6 किमी बिना इंजन के उल्टी दौड़ी ट्रेन, टला बड़ा हादसा

टमाटर के भीतर ऑमलेट

मस्तनम्मा 107 साल की उम्र में जिस तरह से कुकिंग करती थी उनको देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि वे किस तरह बारीकी से रेसिपी बनाती. मस्तनम्मा टमाटर के भीतर ऑमलेट बनाने के बताती थी कि की इसके लिए क्या क्या जरूरी है. पूरी तरह से पका हुआ और थोड़ा सख्त टमाटर लें गूदा निकालकर इसे ऊपर से काट लें. अब अंडे को सीधे टमाटर के भीतर फोड़ें. और तवे पर रख दें. इस तरह टमाटर के अंदर ऑमलेट तैयार.

शिमला मिर्च ऑमलेट

ताजी शिमला मिर्च का ऊपरी एक चौथाई हिस्सा काटकर अलग रख दें. मसालों के अलग से तैयार करें. इसके साथ ऑमलेट में वे चीजें जो आमतौर पर नहीं डालते हैं. इस तरह एक सब्जी ऑमलेट के साथ भी तैयार हो जाती है.

मटन बिरयानी

इस रेसिपी की खासियत ये है कि इस मस्तनम्मा एकदम देसी तरीके से बनाती. पकाने के तरीके से लेकर तड़के का अंदाज भी देसी. मिट्टी की हांडी में ये बिरयानी पकाते हुए.बीच में मसालों का स्वाद भी लेती और मस्तनम्मा बीच-बीच में बताती भी.

ये भी पढ़ें: तेजप्रताप ऐश्वर्या से तलाक लेने पर अड़े, अर्जी वापस लेने से किया इंकार

मदर टरेसा की बात से होती वीडियो की शुरुआत 

मुनगा या सहजन को साथ चिकन को पकाने की कभी सोची है. मस्तनम्मा की रसोई में ये सब होता. मस्तनम्मा के वीडियो की शुरुआत मदर टरेसा की बात से होती, कुछ भी नामुमकिन नहीं, लोगों में रोटी की भूख नहीं है, वे प्यार के भूखे हैं. इसी के साथ मस्तनम्मा प्यार से रसोई में खाना पकाना शुरू करती.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here