हत्यारे जानते थे किसे मारना है, वीडियो में कैद हुई बातचीत

0

बुलंदशहरः स्याना थाना क्षेत्र में हुई हिंसा और इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह हत्या मामले में एक ऐसा सनसनीखेज वीडियो सामने आया है। जो साफ इशारा करता है कि स्याना में गोकशी को लेकर हुई हिंसा अनायास नहीं बल्कि इंस्पेक्टर सुबोध सिंह को हिंसा के बहाने मौत के घाट उतारने की पूरी सोची समझी प्लानिंग थी।

मामला सोमवार सुबह का है, जब गोकशी को लेकर बवाल की सूचना के बाद मौके इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सरकारी गाड़ी से मौके पर पहुंचे। उनके साथ उनका ड्राइवर, हमराही और एक दारोगा थे। तभी भीड़ ने उनको घेर लिया। गन्ना के खेत में छिपे बलवाईयों ने पिस्टल से सुबोध कुमार को निशाना बनाकर गोली मारी।  पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी सामने आया है कि गोली लगने से उनकी मौत हुई। डॉक्टरों ने उनके सिर से .32 की गोली निकाली है।

पिस्टल लेकर भीड़ में घुसे हत्यारे 

भीड़ को कुछ लोगों ने गोकशी को लेकर उकसाया था। उसके बाद ट्रैक्टर ट्रॉली में मांस के कुछ अवशेष लेकर लोग चौकी पहुंचे थे। इसी दौरान कुछ लोगों ने चौकी में पथराव करना शुरु कर दिया। थाना को बवाल की सूचना मिली तो इंस्पेक्टर सुबोध मय फोर्स के मौके पर पहुंचे। जहां उनकी गाड़ी को घेर लिया गया। जान बचाने के लिए गाड़ी में सवार पुलिस कर्मी और इंस्पेक्टर सुबोध पास में ही बनी एक दीवार के किनारे छिप गए। जहां भीड़ में शामिल हत्यारों ने सुबोध को  निशाना बनाकर गोली मारी। गोली सुबोध के सिर पर लगी थी। जिससे वो वहीं गिर गए। इसके बाद भीड़ के साथ हत्यारे फरार हो गए।

ये भी पढ़ेः बुलंदशहर गोकशी को लेकर हिंसा, भीड़ ने इंस्पेक्टर को मार डाला

सुबोध ही थे निशाने पर 

इंस्पेक्टर को गोली मारने के बाद भीड़ सड़क पर जा पहुंची। वहीं हिम्मत जुटाकर ड्राइवर हमराही और दारोगा सुबोध को उठाने पहुंचे। पुलिस कर्मी घायल सुबोध को लेकर अस्पताल ले जाने के लिए जैसे ही निकले। भीड़ ने दोबारा गाड़ी को घेर लिया। इस दौरान हत्यारे भी गाड़ी के पास पहुंचे। जहां उन्होंने इंस्पेक्टर की मौत की पुष्टि की।

वीडियो में हुआ खुलासा

हिंसा के कुछ देर बाद वायरल हुए वीडियो में गौर से सुनने में पता चलता है। वहां मौजूद बलवाईयो की वीडियो में बातचीत रिकॉर्ड हुई है। जिसमें वो बात कर रहे हैं।

‘गोली कहां लग रही है इसके’

लग गई?

हाथ में

कौन है?

‘अरे ये तो वही एसओ है’

वीडियो में रिकॉर्ड  बातचीत से साफ हो रहा है कि वीडियो बनाने वाले इंस्पेक्टर गोली लगने की पुष्टि और मरा हुआ देखना चाहते थे। वीडियो में एक युवक उनकी फोटो भी खींचता नजर आ रहा है. इस्पेक्टर को गोली लगने और मौत को लेकर आश्वस्त होना चाहते थे।

ये भी पढिएः अखलाक की जांच और गवाही तो नहीं बनी सुबोध की हत्या की वजह ? खुद सुनिए कैसे हुई हत्या

अखलाक हत्याकांड के थे जांच अधिकारी

सुबोध की हत्या साजिश के तहत की गई। इस बात से किसी भी अधिकारी ने अबतक इंकार नहीं किया है। वहीं सरकार ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए है। सुबोध की हत्या के पीछे बिसाहड़ा कांड की जांच भी हो सकती है। क्योंकि सुबोध ने मामले की जांच करते हुए दो दिन के अंदर आधा दर्जन से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया था। साथ ही कुछ अतिवादियों को आरोपी बनाया था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here